ऑपरेशन ग्रीन योजना 2023: ऑनलाइन आवेदन, (Operation Green Yojana Benefit in Hindi)

WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now

ऑपरेशन ग्रीन योजना 2023: क्या है, कब शुरू हुई, ऑनलाइन आवेदन, अनुदान, लाभ, लाभार्थी, पात्रता, आय, सब्सिडी, दस्तावेज, अधिकारिक वेबसाइट, हेल्पलाइन नंबर (Operation Green Yojana in Hindi) (Kya hai, Kab shuru hui, Launched Date, Online Apply, Benefit, Subsidy, Beneficiary, Eligibility, Documents, Official Website, Helpline Number)

Operation Green Yojana: किसान भाइयों की इनकम में बढ़ोतरी करने के लिए गवर्नमेंट के द्वारा ऑपरेशन ग्रीन योजना को शुरू कर दिया गया था। ऑपरेशन ग्रीन योजना में आवेदन करने के पश्चात किसान भाइयों को कई सारे फायदे प्राप्त होते हैं। एक तो उन्हें उनकी फसलों का अथवा उनकी सब्जी अथवा फलों का उचित दाम मिलने लगता है और दूसरा उन्हें ट्रांसपोर्टेशन के लिए सब्सिडी की प्राप्ति भी होती है। इस प्रकार से अगर आप भी किसान हैं और सब्जी अथवा फलों को पैदा करके उसकी बिक्री करने का काम करते हैं तो आपको अवश्य ही ऑपरेशन ग्रीन योजना के बारे में जानकारी रखनी चाहिए। आइए आगे आर्टिकल में विस्तार से जानते हैं कि ऑपरेशन ग्रीन योजना क्या है और ऑपरेशन ग्रीन योजना में आवेदन कैसे करें।

ऑपरेशन ग्रीन योजना 2023 (Operation Green Yojana in Hindi)

Table of Contents

योजना का नामऑपरेशन ग्रीन योजना
साल2023
किसने शुरू कीकेंद्र सरकार
लाभार्थीदेश के किसान भाई
उद्देश्यकिसानों को लाभ पहुंचाना
आवेदनऑनलाइन
हेल्पलाइन नंबर011-26406557, 26406545, 9311894002

ऑपरेशन ग्रीन योजना क्या है (What is Operation Green Yojana)

पहली बार उत्तर प्रदेश गवर्नमेंट के द्वारा साल 2001 में ऑपरेशन ग्रीन योजना को शुरू किया गया था। इस योजना के अंतर्गत कृषि उत्पादक संगठन के साथ एग्रीकल्चर परिषद प्रोसेसिंग सर्विस और प्रोफेशनल मैनेजमेंट को प्रोत्साहित करने का काम किया जाता था, परंतु यूपी सरकार के द्वारा शुरू की गई ऑपरेशन ग्रीन योजना के दूरगामी परिणामों को देखते हुए साल 2021 में केंद्र सरकार के द्वारा भी ऑपरेशन ग्रीन प्लान योजना की शुरुआत कर दी गई। ऑपरेशन ग्रीन योजना के अंतर्गत मुख्य लाभार्थी के तौर पर किसान भाइयों को फायदा प्राप्त हो रहा है। ऑपरेशन ग्रीन योजना में सरकार के द्वारा कुछ चुनिंदा फल और सब्जियों को शामिल किया गया है जिनके प्रोडक्शन के लिए और तैयार फल और सब्जी के रखरखाव के लिए तथा ट्रांसपोर्ट के लिए गवर्नमेंट के द्वारा 50% सब्सिडी किसान भाइयों को प्रदान की जा रही है। ऐसा होने से देश में किसान भाई बहुत ही कम खर्चे में अपनी फसल को एक जगह से दूसरी जगह पर ले जाकर बिक्री हेतु उपलब्ध करवा पा रहे हैं और मुनाफा प्राप्त कर रहे हैं। इस योजना की वजह से किसान भाइयों के जीवन स्तर में काफी सुधार आ रहा है और उनकी आजीविका भी पहले से अच्छी चलने लगी है, साथ ही उनकी आय में भी बढ़ोतरी हो रही है। इस प्रकार से ऑपरेशन ग्रीन योजना से किसानों को फायदा ही फायदा मिल रहा है।

ऑपरेशन ग्रीन योजना कौन सा संगठन लागू करता है? (Which organization implements the Operation Green scheme)

ऑपरेशन ग्रीन्स खाद्य प्रसंस्करण उद्योग मंत्रालय द्वारा अनुमोदित एक परियोजना है जिसका लक्ष्य भारत में टमाटर, प्याज और आलू की फसलों (टॉप फसलों) की आपूर्ति को स्थिर करना है, साथ ही देश भर में बिना कीमत के साल भर उनकी उपलब्धता सुनिश्चित करना है। अस्थिरता.

ऑपरेशन ग्रीन योजना में शामिल फसलें (Operation Green Plan Crops Included)

ऑपरेशन ग्रीन योजना में अभी तक सिर्फ प्याज, टमाटर और आलू फसल को ही टॉप पर रखा गया है | किन्तु अब इसमें 18 अन्य सब्जियों व फल को भी शामिल कर दिया गया है | केंद्रीय खाद्य प्रसंस्करण उधोग मंत्री बताते है, कि ऑपरेशन ग्रीन में 8 सब्जी व 10 फलो को शामिल किया जा रहा है | फलो में अमरुद, लीची, केला, कटहल, केला, अनानास, संतरा, अनार, कीवी, कटहल और पपीता को शामिल किया गया है| इसके अलावा सब्जियों में बैंगन, राजमा, गाजर, भिन्डी, शिमला मिर्च, करेला और फूलगोभी शामिल है | खाद्य मंत्री हरसिमरत कौर बादल ने कहा है, कि भविष्य योजना के दायरे को विस्तृत कर अन्य फल व सब्जियों को भी शामिल करने की योजना बनाई जा रही है |

ऑपरेशन ग्रीन योजना में खर्चा (Operation Green Yojana Budget)

एक्सपर्ट के अनुसार योजना को सफल बनाने के लिए केंद्र सरकार के द्वारा तकरीबन ₹6000 करोड़ खर्च किए जा रहे हैं। इस योजना में टोटल 22 तरह की सब्जियों और फलो को शामिल किया गया है। बता दे कि ऑपरेशन ग्रीन योजना से प्रभावित होकर के प्राइवेट सेक्टर ने भी योजना में तकरीबन 1752 करोड रुपए का इन्वेस्टमेंट किया है, जिसकी वजह से तकरीबन 8.25 टन खाद प्रोसेसिंग की कैपेसिटी बढ़ रही है। सरकार के द्वारा स्टार्ट की गई ऑपरेशन ग्रीन योजना को सफल बनाने के लिए इससे संबंधित तीन परियोजनाओं पर भी काम शुरू कर दिया गया है। ऑपरेशन ग्रीन योजना का असर देश में फल और सब्जी मार्केट पर साफ तौर पर दिखाई पड़ रहा है।

ऑपरेशन ग्रीन योजना का उद्देश्य (Operation Green Yojana Objective)

Operation Green Yojana: ऑपरेशन ग्रीन योजना के अंतर्गत सरकार अलग-अलग प्रकार के उद्देश्यों को लेकर के चल रही है। एक तरफ जहां सरकार इस योजना के माध्यम से किसानों की आय में बढ़ोतरी करवाना चाहती है, वहीं दूसरी तरफ सरकार फल और सब्जियों की पैदावार को बढ़ाने के लिए भी किसानों को प्रोत्साहन देना चाहती है। इस योजना के माध्यम से किसान भाइयों को उनके द्वारा तैयार की गई फल और सब्जियों का उचित दाम प्राप्त हो रहा है, जिसकी वजह से उनकी आर्थिक अवस्था में काफी तेजी से सुधार आ रहा है।

ऑपरेशन ग्रीन योजना के लाभ एवं विशेषताएं (Operation Green Yojana Benefit and Features)

  • किसी भी प्रकार की प्राकृतिक आपदा की वजह से या फिर अधिक बरसात की वजह से अगर किसान भाइयों की फसल खराब हो गई है तो उन्हें योजना के अंतर्गत आर्थिक सहायता प्राप्त कराई जा रही है।
  • ऑपरेशन ग्रीन योजना के मुख्य लाभार्थी किसान भाई हैं। इस योजना की वजह से अब उन्हें अपनी कोई भी फसल कौड़ियों के दाम में नहीं बेचना पड़ रहा है।
  • ऑपरेशन ग्रीन योजना की सहायता से फसल की कीमत में जो उतार-चढ़ाव होते हैं उसे रोकने में सहायता प्राप्त हो रही है, जिसकी वजह से किसान भाई सही कीमत में खेती के लिए बीजों की खरीदारी कर पा रहे हैं।
  • सरकार के द्वारा योजना के अंतर्गत किसान भाइयों के लिए 470 से ज्यादा ऑनलाइन एग्रीकल्चर सर्विस सेंटर जल्दी चालू किए जाने थे, जिसमें कुछ शुरू कर दिए गये हैं।
  • गवर्नमेंट ने यह भी कहा है कि योजना के तहत तकरीबन 22000 नई कृषि मंडी का डेवलपमेंट देश के अलग-अलग राज्यों में किया जा रहा है, ताकि किसानों की मार्केट तक पहुंच आसान हो सके।
  • योजना के माध्यम से किसानों को गवर्नमेंट के द्वारा समय समय पर आने वाली प्राकृतिक आपदाओं से कैसे बचा जा सकता है, इसकी जानकारी भी प्रदान की जा रही है।
  • ऑपरेशन ग्रीन योजना के अंतर्गत गवर्नमेंट किसानों को सब्जी, फल के ट्रांसपोर्टेशन के लिए और स्टोरेज के लिए 50 परसेंट की सब्सिडी प्रदान कर रही है।
  • ऑपरेशन ग्रीन योजना में केला, कीवी, अमरुद, आम, संतरा, पपीता, लीची, अनार, कटहल एवं अनानास, राजमा, गाजर, शिमला मिर्च, बैगन, फूलगोभी, भिन्डी और करेला इत्यादि सब्जियों और फलों को शामिल किया गया है।
  • ऑपरेशन ग्रीन योजना में टमाटर उत्पादक राज्यों के तौर पर आंध्र प्रदेश, कर्नाटक, ओडिशा, गुजरात, तेलंगाना इत्यादि राज्यों को शामिल किया गया है। वहीं प्याज उत्पादक राज्यों के तौर पर महाराष्ट्र, कर्नाटक, गुजरात को शामिल किया गया है तथा आलू उत्पादक राज्यों के तौर पर बिहार, यूपी, पश्चिम बंगाल, गुजरात और मध्य प्रदेश को शामिल किया गया है।

ऑपरेशन ग्रीन योजना हेतु पात्रता (Operation Green Yojana Eligibility)

  • किसान उत्पादक संगठन एवं संस्था
  • खाद्य प्रसंस्करण
  • सहकारी समिति
  • व्यक्तिगत किसान
  • निर्यातक राज्य विपरण

ऑपरेशन ग्रीन योजना हेतु दस्तावेज (Operation Green Yojana Documents)

  • आधार कार्ड की फोटो कॉपी
  • बिजली बिल की फोटो कॉपी
  • वोटर आईडी कार्ड की फोटो कॉपी
  • पासपोर्ट की फोटो कॉपी
  • पैन कार्ड की फोटो कॉपी
  • फोन नंबर
  • ईमेल आईडी

ऑपरेशन ग्रीन योजना में ऑनलाइन आवेदन (Operation Green Yojana Online Apply)

  • ऑपरेशन ग्रीन योजना में घर बैठे ऑनलाइन आवेदन करने के लिए सबसे पहले आपको अपने कंप्यूटर में खाद्य प्रसंस्करण उद्योग मंत्रालय की आधिकारिक वेबसाइट को ओपन करके वेबसाइट के होम पेज पर चले जाना है।
  • वेबसाइट के होम पेज पर पहुंच जाने के पश्चात आपको ऑपरेशन ग्रीन के अंतर्गत सब्सिडी के आवेदन के लिए फॉर्म दिखाई देगा, आपको इसी पर क्लिक करना है।
  • अब आपकी स्क्रीन पर ऑपरेशन ग्रीन योजना एप्लीकेशन फॉर्म ओपन होकर आ जाता है, जिसमें आपको जो भी जानकारियां भरने के लिए कहा जा रहा है उन सभी जानकारियों को निश्चित जगह में दर्ज कर देना है।
  • सभी जानकारियों को भरने के बाद आपको आवश्यक दस्तावेज की फोटो कॉपी को अपलोड करना है। इसके लिए आपको अपलोड डॉक्यूमेंट वाले ऑप्शन का इस्तेमाल करना है।
  • अब आपको एक सादे पन्ने पर अपने हस्ताक्षर करके उसे भी डिजिटल फॉर्मेट में स्कैन करके अपलोड कर देना है।
  • अब सबसे आखिरी में आपको नीचे सबमिट वाली बटन मिलेगी, इसी बटन पर क्लिक करें।
  • इस प्रकार से उपरोक्त प्रक्रिया को फॉलो करके आप ऑपरेशन ग्रीन योजना में घर बैठे आवेदन कर सकते हैं। इसके बाद की सारी जानकारी आपको अपने फोन नंबर अथवा ईमेल आईडी पर मिलती रहेगी।

ऑपरेशन ग्रीन योजना हेल्पलाइन नंबर (Operation Green Yojana Helpline Number)

ऑपरेशन ग्रीन योजना क्या है और ऑपरेशन ग्रीन योजना में कैसे आवेदन किया जा सकता है, से संबंधित महत्वपूर्ण जानकारी हमने आपको इसी आर्टिकल में उपलब्ध करवाई । इसके बावजूद अगर आप योजना के बारे में अन्य जानकारी प्राप्त करना चाहते हैं अथवा योजना से संबंधित किसी भी प्रकार की शिकायत को दर्ज करवाना चाहते हैं तो आप ऑपरेशन ग्रीन योजना के हेल्पलाइन नंबर पर संपर्क कर सकते हैं। नीचे दिए गए हेल्पलाइन नंबर पर आप सुबह 10:00 बजे से लेकर दोपहर के 1:00 बजे तक और दोपहर के 1:30 बजे से लेकर 5:30 बजे तक फोन कॉल लगा सकते हैं। हेल्पलाइन नंबर पर आप सोमवार से शुक्रवार तक फोन लगा सकते हैं। रविवार को छुट्टी रहती है और सार्वजनिक अवकाश होने पर भी छुट्टी रहती है।

011 2640 6557, 2640 6545, 93118 94002

होमपेजयहां क्लिक करें
अधिकारिक वेबसाइटयहां क्लिक करें

FAQ

Q : ऑपरेशन ग्रीन योजना की शुरुआत सबसे पहले किसने की थी?

Ans : उत्तर प्रदेश सरकार के द्वारा साल 2001 में की गई थी। उत्तर प्रदेश में वन आवरण बढ़ाने के उद्देश्य से शुरू किया गया था।

Q : ऑपरेशन ग्रीन कौन सा संगठन लागू करता है?

Ans : ऑपरेशन ग्रीन्स खाद्य प्रसंस्करण उद्योग मंत्रालय द्वारा अनुमोदित एक परियोजना है जिसका लक्ष्य भारत में टमाटर, प्याज और आलू की फसलों (टॉप फसलों) की आपूर्ति को स्थिर करना है, साथ ही देश भर में बिना कीमत के साल भर उनकी उपलब्धता सुनिश्चित करना है। अस्थिरता.

Q : ऑपरेशन ग्रीन में कितनी फसलें शामिल हैं?

Ans : ऑपरेशन ग्रीन योजना में 10 फल और 8 शब्जीयां शामिल है. इसके आगे भविष्य में सरकार का योजना है इन फसलों को इस लिस्ट में शामिल भी किया जायेगा.

Q : ऑपरेशन ग्रीन योजना के अंतर्गत किसे फायदा प्राप्त होगा?

Ans : देश के अलग-अलग राज्यों के किसान भाइयों को

Q : ऑपरेशन ग्रीन योजना का फायदा पाने के लिए क्या करना होगा?

Ans : किसान भाई को इस योजना में आवेदन करना होगा। योजना में ऑनलाइन आवेदन किया जा सकता है।

Q : ऑपरेशन ग्रीन योजना में मिलने वाली सब्सिडी कितनी है?

Ans : 50% की सब्सिडी हासिल कर सकते हैं किसान।

Q : ऑपरेशन ग्रीन योजना का हेल्पलाइन नंबर क्या है?

Ans : हेल्पलाइन नंबर 011 2640 6557, 2640 6545, 93118 94002 है।

Leave a Comment